सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कहानी-चोरी का डर Moral story in hindi for class 7

चोरी का डर 

आज आपके लिए hindustory.com एक बच्चे की कहानी लेकर आया है। मेरा नाम अंकुश है मेरी उम्र 12 वर्ष की है यह कहानी आप हिंदू स्टोरी.com में पढ़ रहे हैं

कहानी-चोरी का डर Moral story in hindi for class 7
चोली का डर


 मैं कक्षा 7 में पढ़ता था मेरा स्कूल घर से 400 मीटर की दूरी में था मुझे पैदल हीं स्कूल जाना पड़ता था एक दिन की बात है सुबह मैं स्कूल पढने गया तो 200 मीटर चल चुका था तो मैंने देखा कि एक सेब का पेड़ लगा हुआ है उसमें से एक ही से पेड़ में लटका हुआ है


मैं इसे तोड़ लेता हूं स्कूल में जाकर खाऊंगा इतना मैं सोच ही रहा था कि एक आदमी अपने घर से निकला तो देखा कि वह पेड़ में पानी डाल रहा है और मैं वहां से स्कूल चला गया लेकिन मेरे दिमाग में तो वह से भी दिख रहा था

मैं स्कूल में सोचता रहा कि उसे मैं कैसे तोडूंगा स्कूल की छुट्टी हुई तो मैंने उसी से के छोड़ने के बारे में सोच रहा था जब मैं पेड़ के पास पहुंचा तो देखा वहां पर कोई नहीं था मैंने उस सेब को ज स ही तोड़ा तो उस घर से एक औरत बाहर निकल कर आई और मुझे रोकने लगी पर मै सेब तो तोड़ चुका था मैं वहां से भागने लगा उस औरत ने अपने पति से बता दिया तो वह आदमी मेरा पीछा करने लगा मैं दौड़ता रहा वह भी मेरा पीछा करता रहा ।

ए लड़के रुक - ए लड़के रुक की आवाज मुझे सुनाई दे रही थी मैं दौड़ता रहा मेरी और मेरे घर की दूरी 100 मीटर की रह गई थी मेरी और उस आदमी की दूरी केवल 50 मीटर की हीे थी

वो मेरा पीछा छोड़ नहीं रहा था तभी पीछे से एक मोटरसाइकिल आ रही थी तो वह आदमी उस मोटरसाइकिल में बैठ गया और मेरा पीछा करने लगा मैं अपने से घर 50 मीटर की दूरी में था

तो वह मेरे पास आ गया तो सड़क छोड़कर दूसरे रास्ते से दौड़ने लगा वहां से और नजदीक था मेरा एक और घर मैं अपने पुराने घर की ओर दौड़ने लगा अब वह मोटरसाइकिल पीछे करके वह सड़क से आ रहा था जब तक वह मेरे पास आता मैं अपने पुराने घर के अंदर पहुंच चुका था

उस आदमी ने मुझे घर के अन्दर जाते हुए नहीं देखा तब जाकर मेरी जान में जान आई और मैंने जोर से सांस ली मैं घबरा सा गया था लेकिन वह आदमी मुझे जानता नहीं था और ना ही मेरे घर को तो मैं बच गया था 2 घंटे तक मैं उस कमरे के अंदर ही बैठा रहा मैं डर सा गया था मैं सोच रहा था कि आज के बाद मैं कभी भी चोरी नहीं करूंगा आज मुझे लग रहा था कि डर क्या होता है उस दिन से मैं कभी भी चोरी नहीं की थी

शिक्षा - हमें  माता-पिता और गुरु की बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए माता पिता और गुरु हमेशा सही बातें बताते हैं उन्हें कभी भी अनसुना करके नहीं भुलाना चाहिए


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

1000 + Happy new year shayari 2020

Happy new year shayari 2020दोस्तों क्या आप नए साल के लिए हैप्पी न्यू ईयर शायरी 2020 की शायरी ढूंढ रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हुए हैं यहां पर आपको हर तरह की Happy new year शायरी  मिल जाएगी। जैसे - New year shayari in hindi, Happy new year 2020 shayari in hindi, Happy new year shayari in hindi love ,Happy new year 2020 ki shayari, Happy new year shayari 2020. अगर आपको अच्छी लगे तो इन्हें अपने दोस्तों को जरूर भेजे। " धन्यवाद "


1000+ Romantic love shayari in Hindi फूलों की बहार मुबारक हो, गुलशन की गुलजार मुबारक हो । देता हूं दुआ दिल से तुझको , तेरा नया साल मुबारक हो।


नएवर्ष तुम्हें नई दिशा दे , हर दिन नया तुम्हारा हो । चांद सितारे ,सूरज और उज्जवल भविष्य तुम्हारा हो।



नववर्ष का ये ग्रीटिंग कार्ड स्वीकार कीजिए। सूरज की किरणों के साथ मेरा नमस्कार लीजिए।



चांद चमकता है रातों में तो चांदनी रात होती है। ग्रीटिंग कार्ड के सारे दिल की बात होती है।



फलक से तोड़कर देखो सितारे लोग लाए हैं। मगर मैं वो नहीं लाया जो सारे लोग लाए हैं।



गरीब हुए तो क्या , दिल तो हसीनो जैसा है। क्या आप की निगाहों में , द…

गौतम बुध्द की सीख (Learning of Gautam Buddha)

एक बार की बात है गौतम बुद्ध अपने  शिष्यों के साथ एक गांव से गुजर रहे थे  तभी गौतम बुद्ध को अचानक से प्यास लगी उन्होंने अपने शिष्य से कहा हम सभी लोग इस पेड़ के नीचे आराम कर रहे हैं


 तुम जाओ गांव के पास एक तालाब है वहां से इस घड़े में पानी भरकर ले आओ शिष्य आज्ञाकारी था वह तालाब के पास पहुंचा तो उसने देखा कि उस तालाब पर तो किसान अपने बैलों को स्नान करा रहे हैं 


और लोग तालाब पर कूद कूद स्नान कर रहे है इसके कारण तालाब का पानी तो गंदा था वह सोचने लगा कि इतना गंदा पानी गुरु जी को लेकर जाऊं तो कैसे जाऊं थोड़ी देर इंतजार किया फिर वह अपने गुरूजी के पास वापस पहुंच गया 


जहां गौतम बुध्द एक पेड़ के नीचे आराम कर रहे थे और गौतम बुद्ध से कहा माफी चाहता हूं गुरुदेव मैं चाहता था पानी भरकर लाना लेकिन पानी इतना गंदा था कि मैं पानी भर कर नहीं ला पाया गौतम बुद्ध ने उससे कहा चलो अच्छा तुम भी यही आराम कर लो आधे घंटे बाद गौतम बुद्ध ने शिष्य से कहा 

ये भी पढे़-पानी और समय की कीमत. /. Water and time . motivational


तुम जाओ इस घड़े में तालाब से पानी भरकर ले आओ बहुत तेज प्यास लगी है शिष्य फिर से तालाब पर पहुंचा तो उसने …

Motivational quotes for students in hindi

Motivational quotes for students in hindi