हर लडका गलत नही होता moral story in hindi

              हर लडका गलत नही होता


एक बार की बात है कि एक गांव में सरकारी दफ्तर था वहां पर एक लड़की और 4 लड़के काम करते थे उनमें से एक लड़का था जो हर रोज उस लड़की को देखता रहता था वह लड़की सोचती थी किसी दिन इसकी बेज्जती करवानी पड़ेगी अब यह सुधरेगा वह लड़का उस लड़की से कुछ कहना चाहता था पर वह कह नहीं पाता था

काफी दिन गुजर गए सावन का महीना था उस लड़के ने सोचा कल मैं जरूर बोल दूंगा उसने बाजार से जाकर एक गिफ्ट खरीदा और अगले दिन द्तर पर पहुंचा लड़की ने देखा तो सोचा यह गिफ्ट लेकर क्यों आया है लगता है मुझे देने वाला है इतने में वह लड़का उसके पास गिफ्ट लेकर पहुंचा

वह बोलने वाला ही था कि लड़की बोल पडी क्यों मुझे रोज घूर - घूर के देखते रहते हो क्यों परेशान करते रहते हो यह शोर सुनकर और भी बदतर वाले आ गए और लड़की की बात सुनकर उस लड़के की पिटाई की और बोले अगर दोबारा से तुमने ऐसी हरकत की तो नौकरी से निकाल दिए जाओगे

 उस लड़के ने उसके ग्रुप के अंदर पहले से ही लेटर लिख कर डाल दिया था जिसमें लिखा था कि मैं तुमसे यह कहने वाला था कि 2 दिन बाद रक्षाबंधन है और मेरी कोई बहन नहीं है इसलिए मैं तुम्हें अपनी बहन बनाना चाहता हूं रक्षाबंधन के दिन मेरे घर राखी बांधने आना है आओगी ना यह सारी बातें उस लेटर में लिखी थी
Sad girl
Sad girl

 वह लड़का उस दफ्तर से इस्तीफा देकर वहां से उसी दिन चला गया और वह गिफ्ट वहीं पर छोड़ दिया उस लड़की ने दूसरे दिन उसी गिफ्ट को देखा परंतु लड़के को नहीं  उसने गिफ्ट खोला तो यह सारी बातें पढ़ कर रोने लगी क्योंकि उस लड़की का भी कोई भाई नहीं था वह राखी किसे बांधती जो भाई मिला था वह भी चला गया हमें किसी की बात बिना सुने कुछ नहीं कहना चाहिए

शिक्षा - बिना विचारे जो करे सो पीछे पछताय कई बार ऐसा हो जाता है कि दिमाग में दूसरे के बारे में कई प्रकार के प्रश्न उठते हैं परंतु जरूरी नहीं है कि जो सोचते हैं वही होगा ये भी जरूरी नहीं कि जो दिखता है वही होता है जो नहीं भी दिखता है वह भी हो सकता है


ये भी पढे़ -

टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट