सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सतरंगी बहन moral story in hindi

                           सतरंगी बहन


एक बार की बात है कि एक गांव में एक बहुत ही गरीब परिवार रहता था उस परिवार में 8 सदस्य थे माता-पिता का स्वर्गवास हो चुका था उस परिवार में एक लड़की और 7 लड़के थे लड़की सबसे बड़ी थी वह अपने सातों भाइयों को बहुत प्यार करती थी बहन तो पढ़ी-लिखी नहीं थी पर फिर भी वह अपने भाइयों को पढ़ाना चाहती थी
Sister and brother
Sister and brother


 वह दूसरों के घरों में नौकर बन कर काम करती थी रात में कपड़ों की सिलाई करती थी इस प्रकार परिवार का भरण पोषण करती फिर भी सातों भाई एक दूसरे से हमेशा लड़ते रहते थे कभी पैसे के पीछे तो कभी कपड़ों के पीछे कभी भोजन के पीछे लेकिन बहन नहीं चाहती थी

कि उसके भाई उससे कभी नाराज ना हो इसलिए अपनी इच्छाओं को त्यागकर अपने भाइयों की हर जरूरत और हर इच्छा को पूरा करती थी एक दिन उसकी सहेली रेखा देख रही थी कि उसके सातों भाइयों के बीच में भोजन के बारे में झगड़ा हो रहा था बहन हर तरीके से भाइयों को समझाने की कोशिश कर रही थी

 पर फिर भी भाई नहीं मान रहे थे एक भाई कहता है कि तुम बड़े को  ज्यादा चाहती हो तो दूसरा भाई बोलता है कि तुम छोटे को जाए ज्यादा चाहती हो इतने में तीसरा भाई बोला कि मुझे छोड़कर तुम सबको चाहती हो काफी देर हो चुकी थी फिर भी यह झगड़ा शांत नहीं हुआ


यह सब रेखा देख रही थी तो रेखा को बहुत गुस्सा आ रहा था कि बहन इतना प्यार सबको देती है पर फिर भी भाई ,बहन को प्यार नहीं करते है कभी उसके बारे में नहीं सोचते सिर्फ अपने ही बारे में सोचते रहते हैं रेखा घर लौट आयी और जमीन पर बैठ गई अचानक रेखा ने देखा कि एक गुडं का टुकड़ा जमीन पर पड़ा था और एक चीटी सूंघते हुए


गुड़ के पास आयी फिर वापस लौट गई थोड़ी देर बाद देखा तो उस छोटे से टुकड़े मे ढेर सारी चींटियां आकर उसे खाने लगी गुड का टुकड़ा इतना छोटा था कि चीटियों के बीच में दिख भी नहीं रहा था क्योंकि चीटियां बहुत ज्यादा थी फिर भी उनमें कोई झगड़ा नहीं हो रहा था बड़े प्यार स्नेह के साथ एक झुंड  में खा रही थी यह देखकर रेखा को बहुत आश्चर्य हुआ और उसे लगा कि वह सातों भाइयों को बुलाकर लाए और शायद उन्हें कुछ समझ सके

रेखा उनके घर गई बहन तथा सातों भाइयों को लेकर आई और सारी कहानी सुनाई सातो भाई चीटियों को बड़े ही प्यार से देख रहे थे जो चींटी सभी को बुला कर लाई थी वह सब से दूर खड़ी हुई थी वह गुड के पास में नहीं थी फिर एक चींटी उस चीटी  को बुलाकर गुड के पास ले गयी  और फिर से सभी चीटियां गुड खाने लगी तब रेखा सातों भाइयों को समझाया

कि देखो इन चीटियों को जो चींटी   सबको  लेकर आई थी कि गुड़ यहां पर रखा है पर फिर भी वो नहीं खा रही है सारी चीटीयाँ ने उसे भी ले जाकर उसे भी खिलाया क्या तुम लोगों ने कभी अपने बहन को कभी अपने साथ खिलाया है वह तुम्हारी हर जरूरत को पूरी करती है तुम लोगों के कारण इतनी मेहनत करती है पर फिर भी तुम लोग उसके बारे में कभी नहीं सोचते कि हमारी बहन ने खाया है  या नहीं ना ही उसके पास अच्छे कपड़े है कि नहीं है वह सिर्फ तुम लोगों को खुश और एक साथ रहना देखना चाहती है पर फिर भी तुम लोग झगड़ते रहते हो अब सतों भाइयों को बहुत अच्छे से समझ में आ गया और अपने बहन के पैरों में गिर पड़े और


कहने लगे कि अब हम कभी नहीं लड़ेंगे चीटियों की तरह हिल मिलकर रहेंगे फिर बहन ने अपने भाइयों को गले लगाया और
रेखा को धन्यवाद दिया कि तुमने हमारे भाइयों को एक साथ रखना सिखाया काफी समय बीतने के बाद दो भाइयों की नौकरी लग गई भाइयों ने सोचा कि अब अपनी बहन की शादी खूब धूमधाम से करवाएंगे पर मैंने कहा कि हम शादी नहीं करेंगे हमें तो सातों भाइयों केबीच में रहना है हम तुम को छोड़ कर कभी नहीं जाएंगे पर बहन ने अपने तीन भाइयों का विवाह करवा दिया शादी के बाद भाइयों की बीवियों ने कहा कि इस घर में हम रहेंगे या तुम्हारी बहन रहेगी तीनो भाई अपनी पत्नियों को छोड़ना नहीं चाहते थे फिर भी उन्होंने कहा कि दीदी हमें आपके साथ नहीं रहना है बहुत दिन हो चुके साथ रहते-रहते अब हमें छोड़ दो यह सारी बातें सुनकर बहन को  बहुत दुख हुआ और जा कर आत्महत्या कर ली



और चिट्ठी में लिख कर रख गई कि मैं सबको इतनी छोड़ना नहीं चाहती थी पर मैंने हर इच्छा तुम्हारी पूरी की है तो यह इच्छा भी पूरी कर दी अब अपने चारों भाइयों की देखभाल करने की जिम्मेदारी तीनों की है अपनी बीवियों के कहने से तुम तीनों ने मुझे अलग किया है पर मेरी तुम तीनों से यह इच्छा है कि कभी


अपनी बीवियों के कहने से अपने भाइयों को कभी अलग मत करना यह सारी बातें जानकर तीनों भाइयों को बहुत दुख हुआ और तीनो भाई उससे अपनी बीवी को छोड़कर अपने भाइयों को लेकर गांव छोड़कर वहां से चले गए कहीं यह तीनों हमें हमारे भाइयों को अलग ना कर दे हमने अपनी बहन को खो दिया है लेकिन अपने भाइयों को खोना नहीं चाहते हैं

शिक्षा -इस कहानी से हमे ये सीख मिलती है कि हमें कभी लड़ना झगड़ना नहीं चाहिए दुख सुख में एक दूसरे का साथ होना  चाहिए  और एक रिस्ता  जोड़ने से पुराने रिश्तो को नहीं छोड़ना चाहिए और अपने से बड़ों को प्यार देना चाहिए जिससे तुम्हारी जिंदगी शुरु हुई है उसकी जिंदगी खत्म नहीं करनी चाहिए


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

1000 + Happy new year shayari 2020

Happy new year shayari 2020दोस्तों क्या आप नए साल के लिए हैप्पी न्यू ईयर शायरी 2020 की शायरी ढूंढ रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हुए हैं यहां पर आपको हर तरह की Happy new year शायरी  मिल जाएगी। जैसे - New year shayari in hindi, Happy new year 2020 shayari in hindi, Happy new year shayari in hindi love ,Happy new year 2020 ki shayari, Happy new year shayari 2020. अगर आपको अच्छी लगे तो इन्हें अपने दोस्तों को जरूर भेजे। " धन्यवाद "


1000+ Romantic love shayari in Hindi फूलों की बहार मुबारक हो, गुलशन की गुलजार मुबारक हो । देता हूं दुआ दिल से तुझको , तेरा नया साल मुबारक हो।


नएवर्ष तुम्हें नई दिशा दे , हर दिन नया तुम्हारा हो । चांद सितारे ,सूरज और उज्जवल भविष्य तुम्हारा हो।



नववर्ष का ये ग्रीटिंग कार्ड स्वीकार कीजिए। सूरज की किरणों के साथ मेरा नमस्कार लीजिए।



चांद चमकता है रातों में तो चांदनी रात होती है। ग्रीटिंग कार्ड के सारे दिल की बात होती है।



फलक से तोड़कर देखो सितारे लोग लाए हैं। मगर मैं वो नहीं लाया जो सारे लोग लाए हैं।



गरीब हुए तो क्या , दिल तो हसीनो जैसा है। क्या आप की निगाहों में , द…

गौतम बुध्द की सीख (Learning of Gautam Buddha)

एक बार की बात है गौतम बुद्ध अपने  शिष्यों के साथ एक गांव से गुजर रहे थे  तभी गौतम बुद्ध को अचानक से प्यास लगी उन्होंने अपने शिष्य से कहा हम सभी लोग इस पेड़ के नीचे आराम कर रहे हैं


 तुम जाओ गांव के पास एक तालाब है वहां से इस घड़े में पानी भरकर ले आओ शिष्य आज्ञाकारी था वह तालाब के पास पहुंचा तो उसने देखा कि उस तालाब पर तो किसान अपने बैलों को स्नान करा रहे हैं 


और लोग तालाब पर कूद कूद स्नान कर रहे है इसके कारण तालाब का पानी तो गंदा था वह सोचने लगा कि इतना गंदा पानी गुरु जी को लेकर जाऊं तो कैसे जाऊं थोड़ी देर इंतजार किया फिर वह अपने गुरूजी के पास वापस पहुंच गया 


जहां गौतम बुध्द एक पेड़ के नीचे आराम कर रहे थे और गौतम बुद्ध से कहा माफी चाहता हूं गुरुदेव मैं चाहता था पानी भरकर लाना लेकिन पानी इतना गंदा था कि मैं पानी भर कर नहीं ला पाया गौतम बुद्ध ने उससे कहा चलो अच्छा तुम भी यही आराम कर लो आधे घंटे बाद गौतम बुद्ध ने शिष्य से कहा 

ये भी पढे़-पानी और समय की कीमत. /. Water and time . motivational


तुम जाओ इस घड़े में तालाब से पानी भरकर ले आओ बहुत तेज प्यास लगी है शिष्य फिर से तालाब पर पहुंचा तो उसने …

Motivational quotes for students in hindi

Motivational quotes for students in hindi