सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अधूरी प्रेम कथा / अधूरा प्यार

                 राहुल की love story 

ये कहानी राहुल और अजंली की है ये कहानी शुरु होती है एक कोचिंग सेंटर से जहाँ पर वो पढते थे

Boy and girl

सुबह हुई राहुल कोचिंग जा रहा था कुछ ही दूर पहुचा तो सामने से एक सुन्दर लडकी चली आ रही थी जिसका नाम अजंली था राहुल ने कभी इतनी सुन्दर लडकी नही देखी थी ओ अपने मन में सोंच रहा था कि वा क्या लडकी है कुछ ही देर मे अजंली से टकरा गया 

और उस अजंली की सारी किताबें गिर गई तब अजंली ने तेजी से आवाज में कहा क्यो दिखता नही है क्या राहुल एक दम से चौंक गया राहुल ने अजंली की किताबो को उठाकर बोला soory  और राहुल आगे कि ओर बढ गया जब वह कोचिंग पहुचा तो जैसे ही दरवाजा खोला 
तो वही लडकी पहले से ही कोचिंग मे बैठी थी राहुल तो हैरान ही रह गया और सोंचने लगा की मुझे क्या हो गया है  मुझे तो वही लडकी दिख रही है तभी sir ने कहा की राहुल अन्दर आओगे के वही से पढोगे राहुल ने कहा yes sir


 राहुल जाकर उस लडकी के पीछे बैठ गया एक घण्टे बाद जब कोचिंग की छुट्टी हो गयी और सभी लडके अपने अपने घर जाने लगे तभी राहुल भी अपने घर जाने लगा जैसे ही वह बाहर निकला अजंली ने पूछा राहुल तुम भी यहाँ पढते हो राहुल ने कहा हाँ 

राहुल ने तुरन्त पूछा तुम्हारा क्या नाम है अजंली ने कहा मेरा नाम अजंली है राहुल और अजंली अपने घर चले गये
राहुल जब घर पहुचा तो राहुल को तो अजंली दिख रही थी
रात को अजंली के बारे मे सोंचता रहा कब सुबह हो वह कितनी जल्दी कोचिंग पहुचें  

सुबह हुई जब वह कोंचिग पहुंचा sir ने कहा की सब लोग अपना अपना होमवर्क लाओ मुझे चेक करना है राहुल ने तो होम वर्क किया ही नही था जैसे ही अंजली ने देखा तो अपनी कोपी दे दी और राहुल से कहा तुम चेक करा लेना तो राहुल ने पूछा कि तुम क्या चेक कराओगी तो अंजली ने कि मेरा



कोचिंग का दूसरा दिन इसलिए sir मुझे नही मारेगें तभी sir ने कहा कि तुम्हारा होम वर्क कहाँ है राहुल ने कहा ये है sir और राहुल तो मार खाने से बच गया जब अंजली की बारी आयी तो अंजली ने कहा की sir मैने नही किया तो अगले दिन करने को कहा और उसे छोड दिया एक घण्टे बाद


कोचिंग की छुट्टी हो गयी तभी राहुल ने अंजली से कहा तुम बाहर मिलना तुमसे कुछ कहना है अंजली बाहर आ गयी
 और पूछा क्या बात करनी है तो राहुल ने कहा  क्या तुम मुझसे प्यार करती हो तो अंजली ने हंसकर कहा कि तुम्हे क्या लगा कि मै


तुमसे प्यार करती हूँ इसलिए तुम्हे बचाया ,मैने सोंचा नही था कि तुम इतनी गंदी सोंच रखते हो तो राहुल ने फिर से कहा
क्या तुम मुझसे प्यार नही करती तो अंजली ने कहा नही मै तुम्हे एक अच्छा दोस्त मानती थी पर तुम तो इसके भी लायक नही हो

फिर क्या था राहुल जिंदगी से उदास अपने घर चला गया अंजली भी अपने घर चली गयी अगले दिन राहुल जब कोचिंग
पहुंचा  तो उसने शीट चेन्ज कर दी और दूसरी शीट पर जाकर बैठ गया अंजली यह सब देख रही थी

एक घण्टे बाद जब कोचिंग की छुट्टी हो जाती है  तो राहुल अपने घर जाने लगता है तभी अंजली राहुल को रोकती है अपने बैग से एक खत निकालती है और राहुल को दे देती है  और कहती है ये खत घर खोलना और अंजली घर की ओर चली जाती है जब राहुल घर पहुचता है


 तो खत को खोलता है खत मे लिखा होता है कि मुझे माफ कर देना राहुल मै भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ   खत को पढकर राहुल के मन खुशी शमाई नही जा रही थी अब वह फिर से अंजली के बारे मे सोंचने लगा



अगले दिन राहुल कोचिंग पहुँच तो अंजली उसे कोंचिग नही दिखी तभी  राहुल सोचने लगा कि अंजली क्यों नहीं आई तभी राहुल ने सर से छुट्टी मांगी और अंजली के घर की ओर चल दिया जैसे ही राहुल अंजलि के घर पहुंचा तो सीन अजीबो गरीब था लोगों की भीड़ लगी हुई थी

अंदर जाकर देखा तो एक डेड बॉडी रखी हुई थी और जोरों से हवा चली और डेड बॉडी का कपड़ा उड़ गया और देखा तो अंजली लेटी हुई थी तो राहुल को 11000 वोल्टेज का झटका लगा उसका दिमाग काम नहीं कर रहा था कि वह क्या करें
यह लव स्टोरी शुरू होने से पहले ही खत्म हो गई

                       

          नीचे दी गई कहानियों को जरूर पढ़ें

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गौतम बुध्द की सीख (Learning of Gautam Buddha)

एक बार की बात है गौतम बुद्ध अपने  शिष्यों के साथ एक गांव से गुजर रहे थे  तभी गौतम बुद्ध को अचानक से प्यास लगी उन्होंने अपने शिष्य से कहा हम सभी लोग इस पेड़ के नीचे आराम कर रहे हैं


 तुम जाओ गांव के पास एक तालाब है वहां से इस घड़े में पानी भरकर ले आओ शिष्य आज्ञाकारी था वह तालाब के पास पहुंचा तो उसने देखा कि उस तालाब पर तो किसान अपने बैलों को स्नान करा रहे हैं 


और लोग तालाब पर कूद कूद स्नान कर रहे है इसके कारण तालाब का पानी तो गंदा था वह सोचने लगा कि इतना गंदा पानी गुरु जी को लेकर जाऊं तो कैसे जाऊं थोड़ी देर इंतजार किया फिर वह अपने गुरूजी के पास वापस पहुंच गया 


जहां गौतम बुध्द एक पेड़ के नीचे आराम कर रहे थे और गौतम बुद्ध से कहा माफी चाहता हूं गुरुदेव मैं चाहता था पानी भरकर लाना लेकिन पानी इतना गंदा था कि मैं पानी भर कर नहीं ला पाया गौतम बुद्ध ने उससे कहा चलो अच्छा तुम भी यही आराम कर लो आधे घंटे बाद गौतम बुद्ध ने शिष्य से कहा 

ये भी पढे़-पानी और समय की कीमत. /. Water and time . motivational


तुम जाओ इस घड़े में तालाब से पानी भरकर ले आओ बहुत तेज प्यास लगी है शिष्य फिर से तालाब पर पहुंचा तो उसने …

Motivational quotes for students in hindi

Motivational quotes for students in hindi



















चुपचाप- Short film story in hindi

                           "चुपचाप"
"  चुपचाप सब हो जाता है होकर के करके गुजर जाता है ,वो शैतानी काला साया पीछे से आ जाता है ,गुर्दा के ऐसे फटता है जैसे बाज चिड़िया ले जाता है, बदन पर फर्क क्या ही पड़ेगा वो रूह में आग लगाता है ,चुपचाप सब हो जाता है होकर करके गुजर जाता है ,रास्ते पर इज्जत लुटती है रास्ता भी र्थथराता है आंख से आंसू नहीं गिरता कुछ लहू सा  टपक जाता है, चुपचाप सब हो जाता है होकर करके गुजर जाता है, मिलता उसको इंसाफ यहां जो इसके लिए लड़ जाता है, उसके जख्म नासूर बने जो अपने जख्म छुपाता है, चुपचाप सब हो जाता है वह करके गुजर जाता है  "
यह कहानी रुनझुन की मां की कहानी है मां का नाम गीता था रुनझुन के पिता का नाम रजत था यह कहानी शुरू होती है रुनझुन के घर से रुनझुन स्कूल के लिए तैयार हो रही थी तभी रजत ने टीवी ऑन कर दी इसमें   एक बलात्कार की खबर आ रही थी तभी रजत ने गीता से कहा सुनो रुनझुन का शाम 7:00 बजे का ट्यूशन बंद करा दो कहीं हमारी रुनझुन के साथ कुछ गलत ना हो जाए तो तुम साथ उसे कोचिंग छोड़ने और लेने जाना और रजत ऑफिस चला गया था है 

गीता भी रुनझुन को स्कूल ले जाती…