India मे चुनाव कैसे जीते जाते है

                   माधव सिंह 




ये कहानी माधव सिंह की है जो कि अमीर था और वह  रुपयों के दम पर प्रधान बनता था प्रधान बनने के लिए
उसने क्या - क्या  किया ये सब कुछ हम बताये गे जिससे वह हर बार चुनाव जीतता था 
Best flower

ये कहानी उस वक्त की है जब चुनाव के वोट डालने के 20 दिन बचे  थे । माधव सिंह के विपच्छ मे रामनाई खडा़ था माधव सिंह ने सोंचा रामनाई ही खतरा बन सकता है तभी माधव सिंह ने रामनाई को बुलाया और उससे 

कहा की मै तुमे 50000रुपये दूगां तुम चुनाव मे बैठ जाओ । रामनाई समझदार और ईमानदार था और गरीब भी था लेकिन रामनाई ने रुपये लेने से मना कर दिया और रामनाई अपने घर चला आया  


 अगले दिन तब रामनाई अपने लोगो को लेकर वोट मागने के लिए चला गया माधव सिंह ने हर बार की तरह अपने लोगो को बुलाया और एक टृक शराब की बोतल को मगाया  और सभी शराब की पेटियों को एक कमरे मे रखवाया और लोगो को शाम को बुलाया और हर एक आदमी को 

एक से अधिक क्वाटर दिए गये लोग शराब को पीके नशे मे हो गये सभी लोग माधव सिंह को वोट देने के लिए तैयार हो गये माधव सिह सभी लोगो का लालच तो जानता ही था तभी वह हर दिन  शाम को एक या दो तथा तीन क्वाटर


देने लगा और लोगो को शराब पीकर मजा आने लगा और

जो लोग कभी शराब नही पीते थे वो लोग भी free  की शराब मिलने पर वो भी पीने लगे ऐसा ही कुछ 15 दिनो तक चलता रहा तभी रामनाई समझ गया था कि लोगो को शराब की लत लग गयी है


एक कुछ लोगो को लेकर उन सभी लोगो के पास गया जो माधव सिह के घर मे जाकर शराब पी लेते थे रामनाई ने सभी लोगो को समझाया की वो चुनाव जीतने के लिए चाल चल रहा है जो कि free मे शराब पिला रहा है कुछ दिनो के बाद तुम शराब के आदि हो जाओगे रामनाई की बात को अनुसुना कर दिया  लोगो ने कहा की वो





चुनाव जीतने के लिए माधव सिह के खिलाफ भड़का रहा है

रामनाई तभी वो अपने घर वापस आ गया और उसको लगने लगा कि वो चुनाव नही जीत पायेगा तभी दूसरे दिन शाम को कुछ लोग शराब पीने नही पहुचे तो माधव सिह को पता चला की रामनाई उन सबके घर गया था सुबह हुई माधव सिह भी अपने लोग और कुछ गाँव के लोगो को लेकर पूरे गाँव मे

घूमने चल निकला और सभी लोगो को लालच दिलाया की जो लोग मुझे वोट देगे उन सभी को एक -एक आवाश दिलाऊगा

यह सब कहता है और पूरे गाँव मे घूमता है और सभी लोग सोचने लगते है कि माधव सिह को ही वोट देगे


जब वोट डालने के लिए र्सिफ दो दिन ही रह गये तब माधव सिह ने पता किया  जो लोग बाहर चले गये है उनको बुलाकर वोट डालाया जाए माधव सिह ने सभी गाँव के लोगो को पता किया  कि कौन कौन बाहर है और उनको खबर भेजी की वो लोग वोट डालने आये



उनसे कहा आने जाने मे जो खर्चा होगा वह हम देगे

जो लोग कुछ ही दूर थे उनके लिए गाडी भी भेजी जा रही थी
अब वो रात आ चुकी सुबह से वोट डालने लोगो को जाना था तभी रात को गाँव वालो को आमंत्रित किया और कई प्रकार की मिठाईयाँ बनवायी और लोगो को खिलाया, जी भर के शराब पिलायी गयी




शाम को माधव सिह ने अपने आदमीयोंं को पूरे गाँव मे फैला दिया कि कोइ लोगो को भडकाये नही और लोग क्या क्या बाते कर रहे है कि लोग सुबह गलती से भी रामनाई को वोट न डाल दे अब सुबह हो चुकी थी  जो कि सुबह 6:बजे से लोग वोट डालने जाने लगे थे



तभी माधव के लोग गाँव वालो को लेकर एक या दो से अधिक लोगो को लेकर  वोट डालने के लिए साथ मे जाते की वोट और किसी को न दे । जहाँ पर वोट पढ रहे थे मैदान के बाहर माधव सिह खडा था लोग माधव सिह को देखकर


 लोग अन्दर जाकर माधव सिह को ही देते थे

जिस तरह माधव सिह ने रुपयो को खर्च करके लोगो का मन जीता आखिर मे वह चुनाव जीत गया

आज के समय मे हमे वोट डालना कितना जरूरी है और वोट की कीमत तो आप समझ गये ही  होगे




        नीचे दी गई कहानियों को जरूर पढ़ें





टिप्पणियाँ

लोकप्रिय पोस्ट