सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डर के आगे जीत है

                    डर के आगे जीत है 

ये कहानी उस लडके की है
जो 10th class मे पढता था  और उसे प्रतिदिन 15km दूर 
साइकिल से जाना पढता था और बीच मे एक जंगल पढता था
Best image

उस लडके का नाम था राहुल राहुल  को bord पेपर देने का समय आ चुका था राहुल को जब पहला पेपर देने जाना था तभी उसे सुबह 5 बजे से घर से निकलना था सर्दी का मौसम था स्कूल जाने से पहले उसके पिताजी ने 3000 हजार रूपये   उसकी मौसी को देने को कहा जो की स्कूल के पास घर पढता था राहुल ने कहा ठीक है मै दे दूगाँ राहुल ने घर से चल दिया जब वह जंगल के पास पहुचने वाला था तभी अचानक से सियार ने रास्ता काट दिया राहुल डर गया था तभी वो सोचने लगा कि मेरे पास 3000 हजार रूपये है कुछ देर सोचता रहा तभी उसने उन रुपयोंं को अपने पैरो के मोजो के अन्दर डाल लिये और जंगल की ओर चल पढा


जब वह बीच जंगल मे  पहुचा तभी उसे रोड से कुछ दूर दो ठग दिखे जो लोगो को लूट लेते थे राहुल तो डर सा गया था उसकी धडकन बहुत तेज चुकी थी उसे लग रहा था
कि वह मारा जायेगा  उसने कुछ हिम्मत जुटाई और आगे बडा
दोनो ठग पास ही आ रहे थे लेकिन रोड पे नही थे  रोड से कुछ ही दूर रह गये थे राहुल जब उनके पास पहुचा तभी ठग ने तेजी सी आवाज मे कहा रुक बे कौन है तू राहुल ने साइकिल की पैडल को तेजी से मारा साइकिल की   चाल तेजी हो गयी लेकिन कुछ ही दूर पर साइकिल की चैन उतर गयी


 राहुल तो डर ही गया था राहुल ने मन मे सोचाँ  आगे जीत है यह सोचकर राहुल ने हार नही   मानी और साइकिल को रोका नही और चलने दी कुछ ही दूर पर चढायी थी राहुल ने सोचा की चढायी पार हो जाये जैसे ही चढायी पार हो गयी तभी
साइकिल और तेजी से चल रही थी अब वह काफी दूर निकल
गया था तब तक  साइकिल रुक चुकी थी वह जल्दी से साइकिल से उतरा और चैन को चढाने लगा तभी साइकिल की चैन फस चुकी थी राहुल ने साइकिल को पैदल ही दौडाने लगा  चलता गया जब आगे एक छोटा से गाँव के पास पहुचा तभी
 उसने अपनी साइकिल की चैन को चढाया और बहुत कठिन से वह अपने स्कूल पहुचा और   उसने पेपर को दिया और वह अपनी मौसी के पास पहुचा और उनको बताया की दो ठग
 मुझे मिल गये थे और उनके रुपये दे दिये राहुल ने बाकी पेपर अपनी मौसी के घर से दिये 👍👌


        नीचे दी गई कहानियों को जरूर पढ़ें


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गौतम बुध्द की सीख (Learning of Gautam Buddha)

एक बार की बात है गौतम बुद्ध अपने  शिष्यों के साथ एक गांव से गुजर रहे थे  तभी गौतम बुद्ध को अचानक से प्यास लगी उन्होंने अपने शिष्य से कहा हम सभी लोग इस पेड़ के नीचे आराम कर रहे हैं


 तुम जाओ गांव के पास एक तालाब है वहां से इस घड़े में पानी भरकर ले आओ शिष्य आज्ञाकारी था वह तालाब के पास पहुंचा तो उसने देखा कि उस तालाब पर तो किसान अपने बैलों को स्नान करा रहे हैं 


और लोग तालाब पर कूद कूद स्नान कर रहे है इसके कारण तालाब का पानी तो गंदा था वह सोचने लगा कि इतना गंदा पानी गुरु जी को लेकर जाऊं तो कैसे जाऊं थोड़ी देर इंतजार किया फिर वह अपने गुरूजी के पास वापस पहुंच गया 


जहां गौतम बुध्द एक पेड़ के नीचे आराम कर रहे थे और गौतम बुद्ध से कहा माफी चाहता हूं गुरुदेव मैं चाहता था पानी भरकर लाना लेकिन पानी इतना गंदा था कि मैं पानी भर कर नहीं ला पाया गौतम बुद्ध ने उससे कहा चलो अच्छा तुम भी यही आराम कर लो आधे घंटे बाद गौतम बुद्ध ने शिष्य से कहा 

ये भी पढे़-पानी और समय की कीमत. /. Water and time . motivational


तुम जाओ इस घड़े में तालाब से पानी भरकर ले आओ बहुत तेज प्यास लगी है शिष्य फिर से तालाब पर पहुंचा तो उसने …

Motivational quotes for students in hindi

Motivational quotes for students in hindi



















चुपचाप- Short film story in hindi

                           "चुपचाप"
"  चुपचाप सब हो जाता है होकर के करके गुजर जाता है ,वो शैतानी काला साया पीछे से आ जाता है ,गुर्दा के ऐसे फटता है जैसे बाज चिड़िया ले जाता है, बदन पर फर्क क्या ही पड़ेगा वो रूह में आग लगाता है ,चुपचाप सब हो जाता है होकर करके गुजर जाता है ,रास्ते पर इज्जत लुटती है रास्ता भी र्थथराता है आंख से आंसू नहीं गिरता कुछ लहू सा  टपक जाता है, चुपचाप सब हो जाता है होकर करके गुजर जाता है, मिलता उसको इंसाफ यहां जो इसके लिए लड़ जाता है, उसके जख्म नासूर बने जो अपने जख्म छुपाता है, चुपचाप सब हो जाता है वह करके गुजर जाता है  "
यह कहानी रुनझुन की मां की कहानी है मां का नाम गीता था रुनझुन के पिता का नाम रजत था यह कहानी शुरू होती है रुनझुन के घर से रुनझुन स्कूल के लिए तैयार हो रही थी तभी रजत ने टीवी ऑन कर दी इसमें   एक बलात्कार की खबर आ रही थी तभी रजत ने गीता से कहा सुनो रुनझुन का शाम 7:00 बजे का ट्यूशन बंद करा दो कहीं हमारी रुनझुन के साथ कुछ गलत ना हो जाए तो तुम साथ उसे कोचिंग छोड़ने और लेने जाना और रजत ऑफिस चला गया था है 

गीता भी रुनझुन को स्कूल ले जाती…